दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) | दीपावली पर निबंध

आई दिवाली, गई दिवाली
खुशियों से भर गई दिवाली।।

प्रकाश का पर्व दीपावली पर निबंध

दिवाली की भूमिका (Introduction)

प्रकाश का पर्व दीपावली हमें यही सिखाता है कि तमसो मा ज्योतिर्गमय अर्थात अंधकार की ओर नहीं बल्कि प्रकाश की ओर बढ़ो। दीपावली शब्द दो शब्दों के मेल से बना है दीप + आवली अर्थात दीपाको की कतार। इस दिन दीपो को कतार में जलाया जाता है इसलिए इसको दिवाली, दीपावली और ज्योति पर्व के नाम से पुकारा जाता है। यह कार्तिक के महीने में अमावस्या की अंधेरी रात को प्रकाश में बदल कर मनाया जाता है दीपावली एक और तमसो मा ज्योतिर्गमय की संदेश वाहन है जो दूसरी ओर लक्ष्मी देवी का संदेश देती है कि मैं जिसकी स्वामिनी बनती हूं, वह उलूक बन जाता है। मैं जिसकी सहली बनती हूं वह कुबेर बन जाता है। दीपावली को एकता का पर्व माना जाता है।

Go To Home Page : Click Here

दिवाली पर निबंध Essay on Diwali | दीपावली पर निबंध

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi)

दीपावली क्यों मनाई जाती है : दीपावली के साथ अनेक ऐतिहासिक कारण भी जुड़े हुए हैं। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचंद्र जी लंका विजय करने के उपरांत चौदह वर्ष पश्चात इस दिन अयोध्या लौटे थे। उनके स्वागत के लिए अयोध्या वासियों ने घी के दीपक जला कर अपने घरों को प्रकाशित किया था इसी दिन भगवान विष्णु ने अत्याचारी हिरणकश्यप को मारकर भक्त प्रल्हाद की रक्षा की थी। समुद्रमंथन से धन की देवी लक्ष्मी जी का अवतरण भी इसी दिन हुआ था। जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस होने के कारण जैन समाज के लोग बड़े आनंद और उल्लास के साथ दीपावली मनाते हैं।

दिवाली का त्यौहार कब मनाया जाता है : दिवाली का त्यौहार वर्षा की समाप्ति पर आता है इस समय शरद ऋतु का आगमन होता है। अतः लोग अपने घरों, दुकानों की सफाई करते हैं, ताकि सीलन, कीड़े-मकोड़े और अन्य कीटाणु समाप्त हो जाए। सफेदी व रंग-रोपण तो रोगाणुनाशक का काम करते हैं। घरों को रंग रंगों से सजाया जाता है। इस दिन लोग बाजारों से बम पटाखे खरीद कर लाते हैं। सायंकाल होते ही लाइनों में दीपक जलाए जाते हैं। मिठाईयां बांटी जाती है और बम पटाखे छोड़ कर खुशियां मनाई जाती है अमृतसर की दीपावली बहुत प्रसिद्ध है।

धनतेरस के दिन क्या करते हैं : दीपावली का त्यौहार त्रयोदशी (धनतेरस) के दिन से प्रारंभ हो जाता है। इस दिन नए बर्तनों का खरीदना शुभ माना जाता है। इसके पश्चात छोटी दीपावली आती हैं। इसे नरक चतुर्दशी भी कहते हैं। इस दिन मृत्यु के देवता यम को दीपक दिखाकर खुश करते हैं। श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध भी इसी दिन किया था। कार्तिक की अमावस्या को मुख्य दीपावली मनाई आती है। संध्या होते ही लोगों के घर तथा राज्य मार्ग दीपों से जगमगाने लगते हैं। नगरों में बिजली की रंग बिरंगी आभा ऐसी प्रतीत होती है, मानो पृथ्वी पर स्वर्ग से इंद्रधनुषी रंग बिखेर दिए हो।

दीपावली त्योहार की तैयारी : दीपावली में मिठाई की दुकान, मेवो तथा फलों की दुकाने तथा उपहार सामग्री की दुकाने काफी अच्छी तरह सजाई जाती है। इन दुकानों पर काफी भीड़ होती है। दीपावली के दिन ऐसे आनंद और उल्लास के बीच जगमग करती हुई रोशनी मे गणेश और लक्ष्मी का पूजन करके सुख समृद्धि बढ़ाने की कामना की जाती है। दीपावली के दूसरे दिन गोवर्धन की पूजा होती है। जिसमें पशुधन के संरक्षण और संवर्धन की कामना की जाती है। भगवान श्री कृष्ण ने इसी दिन गोवर्धन पर्वत उठाया था।

उपसंहार : इस महान पर्व को आज कुछ कुरूतियो ने कलुषित कर दिया है। कुछ लोग दीपावली के दिन जुआ खेलते हैं, जिससे सैकड़ों घर बर्बाद हो जाते हैं। कुछ लोग ही इस दिन मदिरापान करते हैं और जुआ खेलते हैं। यह एक कलंक है दीपावली का त्यौहार एक धार्मिक त्योहार है। भारत में जिस प्रकार ऋतुओ में वसंत ऋतु का महत्व है, उसी प्रकार त्योहारों में दीपावली के त्यौहार की महत्ता है। यह त्योहार हमारे तन मन को, घर आंगन को, गली कूचे को जगमग कर देता है। दीपावली की रात को अंधेरा छिपाने को स्थान नहीं मिलता। मोतियों की लड़ी की भाती रोशनी जगमगाती है

Related Searches

  • diwali kab manai jati hai
  • दिवाली पर निबंध
  • diwali ka dusra naam kya hai
  • दिवाली पर निबंध
  • diwali ko kis naam sa jana jata hai
  • दिवाली पर निबंध
  • dhan teras pr log kya karte hai
  • दिवाली पर निबंध
  • diwali q manai jati hai दिवाली पर निबंध
  • दिवाली पर निबंध
  • diwali kaha manai jati hai दिवाली पर निबंध
  • दिवाली पर निबंध
  • diwali kaise manai jati hai दिवाली पर निबंध
  • दिवाली पर निबंध

दीपावली – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

दीपावली के त्यौहार को प्रत्येक वर्ष कब मनाया जाता है ?

कार्तिक मास के अक्टूबर या नवंबर माह दिवाली के पर्व को मनाया जाता है। इस वर्ष दीवाली 4 नवंबर को मनाई जाएगी।

दिवाली का त्यौहार क्या भारत देश में ही मनाया जाता है ?

दीवाली का त्यौहार भारत में ही नहीं ब्लकि बहुत से अन्य देशों में अलग अलग रूप में मनाया जाता है।

दिवाली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है ?

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचंद्र जी लंका विजय करने के उपरांत चौदह वर्ष पश्चात इस दिन अयोध्या लौटे थे। उनके स्वागत के लिए अयोध्या वासियों ने घी के दीपक जला कर अपने घरों को प्रकाशित किया था, तभी से दीवाली का त्यौहार मनाया जाता है।

धनतेरस के दिन क्या करते हैं ?

दीपावली का त्यौहार त्रयोदशी (धनतेरस) के दिन से प्रारंभ हो जाता है। इस दिन नए बर्तनों, कपडे, आदि नया सामान का खरीदना शुभ माना जाता है।

दीपावली त्योहार की तैयारी कैसे की जाती है ?

दीपावली में मिठाई की दुकान, मेवो तथा फलों की दुकाने तथा उपहार सामग्री की दुकाने काफी अच्छी तरह सजाई जाती है। इन दुकानों पर काफी भीड़ होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.