कंप्यूटर | Computer

कंप्यूटर ऐसे यांत्रिक मस्तिष्क को का रूपात्मक और समन्वयात्मक योग तथा गुणात्मक घनत्व गति से न्यूनतम समय में श्रुटिहीन गणना कर सके। कंप्यूटर आज के युग की अप्रिहाय आवश्यकता बन गया है। देश में सर्वत्र दफ्तरों, बैंकों, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, रेलवे आदि में कंप्यूटर का उपयोग बहुत जोरो से हो रहा है। गणितीय कार्यों वह वैज्ञानिक गणना पद्धतियों में सबसे शुद्ध व सबसे उपयोगी गणना करने वाला यंत्र कंप्यूटर है। कंप्यूटर जटिल से – जटिल समस्याओं का हल सेकेंडों मैं कर देता है।

ऐसी जटिल समस्याओं का समाधान पाने में मनुष्य को कई दिन, यहां तक कि महीनों लग जाते थे। कंप्यूटर की क्षमताएं असाधारण हैं। अतः उननत देशों में व्यावसायिक और वैज्ञानिक दृष्टि से कंप्यूटर का उपयोग अति महत्वपूर्ण हो गया है।
आरंभ में गणित की जटिलतम गणनाएं करने के लिए ही कंप्यूटर का विकास किया गया था।

कंप्यूटर
कंप्यूटर

चार्ल्स बेबेज ने 19वीं शताब्दी के आरंभ में गणित औरखगोल – विज्ञान की सूक्ष्म साणियां तैयार करने के लिए एक भव्य कंप्यूटर योजना तैयार की थी। पिछले सदी के अंतिम भाग में अमेरिका इंजीनियर हरमान होललेरिथ ने जनगणना से संबंधित आंकड़ों का विश्लेषण करने के लिए पंच कडों पर आधारित कंप्यूटर का प्रयोग किया था। दूसरे महायुद्ध ने प्रथम बार बिजली से संचालित होने वाले कंप्यूटर बने। उनका उपयोग भी गणना हो तक ही सीमित रहा, परंतु आज के कंप्यूटर अक्षरों, शब्दों, आकृतियों और कथनों का ग्रहण करने में समर्थ है।

कंप्यूटर के उपयोग | Computer usage:

दैनिक जीवन के कितने ही क्षेत्रों में कंप्यूटर का व्यापक उपयोग हो रहा है। बड़े-बड़े व्यवसाय, तकनीकी संस्था और महत्वपूर्ण प्रतिष्ठान कंप्यूटर के मस्तिष्क का उपयोग करते हैं। भारतीय बैंकों में खातों के संचालन और हिसाब- किताब के लिए कंप्यूटर का प्रयोग आरंभ किया गया है। के राष्ट्रीयकृत बैंकों ने चुंबकीय संख्याओं वाली नई चैक बुक जारी की है। यूरोप के कई देशों में ऐसी व्यवस्थाएं अस्तित्व में आ गई हें के घर के निजी कंप्यूटर को बैंकों के कंप्यूटरों के साथ जोड़कर लेन-देन का व्यवहार किया जा सकता है।

कंप्यूटर अब कलाकार या चित्रकार की भूमिका भी निभा रहा हैं:

अब कलाकारों को चित्र तैयार करने के लिए रंगो, रंगपटठिकाओं और कैनवस कि कोई आवश्यकता नहीं है। आधुनिक कंप्यूटरों के माध्यम से भावनों, मोटर- गाड़ियों, वायुयानों आदि के डिजाइन तैयार करने में, कंप्यूटर ग्राफिक का व्यापक प्रयोग हो रहा है। वास्तु -शिल्पी अपना डिजाइन कंप्यूटर के स्क्रीन पर तैयार करते हैं और साथ लगे प्रिंटर से इनके प्रिंट भी तुरंत प्राप्त कर लेते हैं।
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन एक सरल कंप्यूटर ही है। मतदान के लिए ऐसी वोटिंग मशीनों का योगिक उपयोग हमारे देश में हो चुका है। भारत में वोटिंग मशीनें बन चुकी है। कंप्यूटर अब सुर सजाने का काम भी करने लगे हैं। पाश्चात्य संगीत के सवरांकन को कंप्यूटर स्क्रीन पर प्रस्तुत करने में कोई कठिनाई नहीं होती। भाग्य जांचने वालों में कंप्यूटर भी पीछे नहजीं है। 12 ग्रहों की कुंडली तैयार करना एक नितांत गणितीयकार्य है।

विवाह जोड़ने के कार्य में कंप्यूटर करने लगे है:

आज महायुद्ध की तैयारी के लिए शक्तिशाली सुपर कंप्यूटर का विकास किया जा रहा है। महाशक्तियों की, स्टार वासृ, योजना कंप्यूटरों के नियंत्रण पर आधारित है।
बड़े बड़े कारखानों में मशीनों के संचालन का कार्य अब कंप्यूटर संभाल रहे हैं। कंप्यूटरों से जुड़कर रोबोट ऐसी मशीनों का नियंत्रण कर रहे हैं, जिनका संचालन मानव के लिए अधिक कठिन था। कंप्यूटर नेटवर्क की कुछ व्यवस्थाएं अब हमारे देश में भी स्थापित हो गई हैं। एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस की हवाई यात्राओं के आरक्षण के लिए अब ऐसी व्यवस्था है। कंप्यूटर नेटवर्क से बड़े-बड़े शहरों में रेल – यात्रा के आरक्षण की व्यवस्था भी अस्तित्व में आ गई है।

भारत में कंप्यूटर तथा कंप्यूटर ऑपरेटरों का भविष्य काफी उज्जवल है। विदेशी कंपनियों के इस देश में जम जाने के बाद इस स्थिति में और भी ज्यादा सुधार की संभावना है। टेक्नोलॉजी के छेत्र में कंप्यूटर की उपयोगिता को अस्वीकार नहीं किया जा सकता। कंप्यूटर की क्षमताओं को समझकर इसका उपयोग करना लाभदायक है। इसका सबसे बड़ा दोस्त यह है कि मानव बुद्धि से कंप्यूटर के अधीन हो जाएगा और छोटी-छोटी बातों के लिए उसकी निर्भरता कंप्यूटर पर बढ़ेगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published.