कंप्यूटर – आज के युग की जरूरत पर निबंध | Essay on Computer

भूमिका – कंप्यूटर आज की आवश्यकता

आज के युग को विज्ञान का युग या वैज्ञानिक युग की संख्या दी जाए तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी, क्योंकि आज विषय विज्ञान के द्रढ संतभ पर ही टिका है। विज्ञान ने मानव को अनेक प्रकार की शक्तियां, सुख सुविधाएं तथा क्रांतिकारी उपकरण दिए है, जिनके कारण काल और स्थान की दूरियां मिट गई है। विज्ञान के अनेक विश्मयकारी तथा महत्वपूर्ण उपकरणों में कंप्यूटर का विशेष स्थान है।

कंप्यूटर - आज के युग की जरूरत पर निबंध | Essay on Computer

कंप्यूटर मानव मस्तिष्क से भी तेज

कंप्यूटर की तुलना यदि मानव मस्तिष्क से की जाए तो गलत नहीं होगा। इसकी उपयोगिता को देखते हुए आज देश के लगभग हर विद्यालय में इसे पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। यह एक ऐसी मशीन है जो कठिन से कठिन जोड़, घटा, गुना, भाग आदि को अत्यंत शीघ्रता से तथा शत-प्रतिशत युद्धता शेयर करने में समर्थ है तथा स्थान स्थान पर इसके प्रशिक्षण की सुविधाएं भी उपलब्ध है। अनेक महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों में भी कंप्यूटर के उच्च शिक्षण प्रशिक्षण केस विद आए हैं। यह प्रशिक्षण दो प्रकार का होता है हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर। कंप्यूटर की विभिन्न भाषाएं हैं-लोटस, कोबोल, पासकल, बेसिक आदि। कंप्यूटर की विशेषताओं के कारण आज है हमारे जीवन का आवश्यक अंग बन गया है।

कंप्यूटर की अनेक विस्मयकारी सुविधाएं

आजकल कंप्यूटर का प्रयोग बैंकों, रेलवे स्टेशनों, विद्यालयों तथा कार्यालयो आदि में बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। रेलवे स्टेशनों, हवाई अड्डों पर आरक्षण के लिए कंप्यूटर का प्रयोग किया जाता है। चिकित्सा के क्षेत्र में कंप्यूटर के प्रयोग से रोगी की चिकित्सा करने में बहुत मदद मिलती है। बड़े बड़े कारखानों में मशीनों को चलाने में कंप्यूटर अत्यंत उपयोगी है। बिजली का बिल बनाने, टेलीफोन का बिल बनाने, मौसम की जानकारी एकत्रित मैं भी कंप्यूटर की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है।

आजकल कंप्यूटर पर इंटरनेट सुविधा भी उपलब्ध है, जिनके द्वारा विषय में किसी भी कोने मैं कुछ ही क्षणों में समाचारों तथा सूचनाओं का आदान प्रदान संभव हो गया है। आजकल के युद्ध भी कंप्यूटर के सहारे जीते हैं।

शिक्षा के क्षेत्र में भी कंप्यूटर की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। अनेक विषयों की पढ़ाई कंप्यूटर के द्वारा की जा सकती है। इस प्रकार कंप्यूटर तो ज्ञान विज्ञान का ‘इनसाइक्लोपीडिया’ बन गया है।

शिक्षा के क्षेत्र की तरह विज्ञापन के क्षेत्र में भी कंप्यूटर ने अपनी अद्भुत प्रतिभा का परिचय दिया है। टीवी पर दिखाए जाने वाले अनेक विज्ञापन कंप्यूटर द्वारा ही विकसित किए जाते हैं। पुस्तकों की छपाई के काम में भी कंप्यूटर की सहायता ली जाती है। टी वी पी के द्वारा कंप्यूटर द्वारा पुस्तकों की छपाई का काम ने केवल सरल, अपितु सुंदर भी बन गया है। पुस्तकों के छापे जाने वाले आरेख,चित्र तथा

बालिकाओं को कंप्यूटर द्वारा अत्यंत सुगमता में छापा जा सकता है।किसी भी कंप्यूटर को 5 भागों में बांटा जा सकता है मेमोरी, कंट्रोल, अंकगणित का अंग, इनपुट यंत्र और आउटपुट यंत्र।

कंप्यूटर का प्रयोग बढ़ता ही जा रहा है। अनेक प्रकार की भविष्यवाणिया के लिए भी कंप्यूटर का सहारा लिया जा रहा है। जन्मपत्रिया अभी कंप्यूटर द्वारा बनाई जा रही है।

उपसंहार

आज का कंप्यूटर मानव के लिए कल्पतरू और कामधेनु के समान बन गया है, क्योंकि हम मानव मस्तिष्क का काम कंप्यूटर करने लगा है।लगभग हर क्षेत्र में इसका उपयोग किया जा रहा है।आज अपना व्यवसाय करें या नौकरी आपको इसका ज्ञान होना आवश्यक है अन्यथा आप अपने व्यवसाय में दूसरों से पीछे रह जाएंगे और नौकरी पाने वालों को नौकरी मिलने से समस्या होगी, इसीलिए इसका ज्ञान आज के समय मैं अति आवश्यक है। अनेक क्षेत्रों में मनुष्य के मस्तिष्क को मात देने वाले कंप्यूटर का भविष्य अंत यंत्र उज्जावल है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.